इतिहास की कुछ घिनौनी प्रथा कौन सी है जो समय के साथ खत्म हो गयी?

0
150
7 of the Most Outrageous Medical Treatments in History

इतिहास की कुछ घिनौनी प्रथा कौन सी है जो समय के साथ खत्म हो गयी?

अगर आप सोचते है कि वर्तमान समय में काफी अनोखे कार्य हो रहे है तो आपको इतिहास कि बातो को अवश्य जानना चाहिए यह बिलकुल सच है कि हमारा इतिहास इस तरह के अजीबोगरीब कारनामो से भरा पड़ा है आज कुछ ऐसे ही प्रथाओं के बारे में जानते है जो अत्यंत ही अजीब, भद्दी और घिनौनी थी

  1. कोकीन से उपचार

कोकीन को एक दवा के रूप में इस्तमाल किया जाता था सौ साल पहले कोकीन को इतना खतरनाक और नुकसानदायक नहीं समझा जाता था और यह नशीला पदार्थ मेडिकल स्टोर पर आसानी से उपलब्ध था उस समय इसे डॉक्टर कि सलाह के बगैर भी आसानी से लिया जा सकता था कोकीन को खांसी और दांत दर्द में लिया जाता था कोकीन एक दर्द निवारक के रूप में बच्चो को भी दिया जाता था यह बिलकुल क़ानूनी था उस समय कोकीन का भी बाकि दवाओं की तरह बढ़चढ़ कर प्रचार किया जाता था इसके अलावा कोकाकोला की एक बोतल में 9 मिलीग्राम कोकीन का इस्तमाल किया जाता था 1903 में कोकाकोला ने कोकीन का इस्तमाल बंद कर दिया था

2. बच्चो को डाक के जरिये भेजना

यह सुनने में अटपटा लगेगा मगर 20वी सदी में अमेरिकी लोग डाक से अपने बच्चो को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजते थे और यह कार्य गैरकानूनी नहीं था एक बच्चे को भेजने के लिए उन्हें 15 सेंट देने होते थे अगर वजन ज्यादा हो तो पैसे भी ज्यादा लगते थे अमेरिकन अपने बच्चो को रिश्तेदारों के पास भेजते थे ताकि वो कुछ पैसा बचाकर रख सके बच्चो के पास एक स्टाम्प होती थी जो उनके कपड़ो से जुडी होती थी इस स्टाम्प में बच्चे से जुडी सारी जानकारी होती थी इसकी सहायता से बच्चा सही जगह पहुँच जाता था

3. बच्चो के पिंजरे

1930 में तारो से बने पिंजरे ब्रिटिश परिवारों में आम बात थी जो महिलाये घर के कामो में व्यस्त रहती थी वह इन पिंजरों का इस्तमाल अपने बच्चो के लिए करती थी जिससे बच्चे ताज़ी हवा में सांस ले सके विश्वास नहीं होता कि इन पिंजरों को उस समय सुरक्षित समझा जाता था इन पिंजरों को इसलिए बनाया गया था जिससे इन बच्चो को ताज़ी हवा मिलसके और उनकी हेल्थ ठीक रहे हालाँकि डॉक्टर ने ऐसे पिंजरे इस्तमाल करने कि इज़ाज़त कभी नहीं दी लेकिन कई माता पिताओ के पास बच्चो के खेलने के लिए पर्याप्त स्थान नहीं था इसलिए ऐसे माता-पिताओ ने इन पिंजरों का खूब इस्तमाल किया

4. इलाज़ के संदेहात्मक तरीके

प्राचीन समय में डॉक्टर्स के पास infection या संक्रमण का कोई निश्चित इलाज़ नहीं होता था उस समय डॉक्टर इलाज़ के लिए अजीब तरीको का इस्तमाल करते थे जैसे रक्तस्राव का इस्तमाल कई बीमारियों के इलाज़ के लिए होता था हकलाने कि बीमारी का इलाज जीभ काटकर किया जाता था दिमाग की सर्जरी और बिजली के झटके देना एक आम बात थी इन इलाज़ो का परिणाम अधिकतर भयावह होता था 19 वी शताब्दी में इलाज़ का एक और तरीका बेहद मशहूर हुआ इस तरीके में बहुत सारी जोंक मरीज के शरीर से चिपका दी जाती थी जो शरीर का काफी सारा खून पी जाती थी

5. इंसानी चिड़िया घर

इंसानी चिड़ियाघर एशियाई और अफ्रीकन इंसानो को दिखने के लिए बनाये गए थे इसके अलावा इनका उद्देश्य डार्विन की थ्योरी को सिद्ध करना भी था अन्य शब्दों में कहे तो गोर लोग अपने आप को सबसे ऊपर मानते थे ऐसे चिड़ियाघर लंदन और पेरिस में आसानी से मिल जाते थे उस समय ऐसे चिड़ियाघर को देखने दूर दूर से हज़ारो लोग आते थे जहा पर इंसानो की विभिन्न प्रजातियां अपने लोकनृत्य से उनका मनोरंजन करती थी यह एक कड़ुआ सच है कि ऐसे शर्मनाक स्थल काफी दिनों तक प्रचलन में थे

पढने के लिए धन्यवाद

स्रोत:

7 of the Most Outrageous Medical Treatments in History

Please follow and like us:
YOUR ADD

Leave a Reply