पकौड़ा-पान पर खत्म हुआ मोदी सरकार का एक करोड़ नौकरियों का वादा – INTERNATIONAL LABOUR ORGANIZATION|UNEMPLOYMENT INCREASING

0
242
MODI GOVERNMENT FAIL TO PROVIDE JOB
MODI GOVERNMENT FAIL TO PROVIDE JOB

पकौड़ा-पान पर खत्म हुआ मोदी सरकार का एक करोड़ नौकरियों का वादा – INTERNATIONAL LABOUR ORGANIZATION|UNEMPLOYMENT INCREASING

INTERNATIONAL LABOUR ORGANIZATION  | UNEMPLOYMENT INCREASING ने हाल  ही में अपने रिपोर्ट में कहा है की भारत में बेरोजगारी की दर बढ़ रही है , अगर रिपोर्ट की माने तो  2019 के भारत में बेरोजगारों की संख्या 2 करोड़ के पार हो जाएगी | जब 2014 में लोकसभा चुनाव हो रहे थे उस समय बेरोजगारी की संख्या लगभग 1.80 करोड़ के आसपास थी जो की घटने के बजाय पिछले 4 सालों में लगभग 20 करोड़ के आस – पास बढ़ी है |




वर्ष 2014 में प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सभी चुनावो में बेरोजगारी को लेकर ही उस समय सत्ता में बैठे कांग्रेस को लगातार कोष रहे रहे थे , उस समय की बेरोजगरी की एस्तिथि को देखते हुए , उन्होंने उस समय जनता से वादा की था अगर हमारी सरकार बनती है तो हर वर्ष 1 करोड़ नौकरी की वयवस्था करेगी , अब समय मोदी जी खुद प्रधानमंत्री है और उनकी पार्टी BJP की सरकार है , 2014 के चुनावी वादे के 4 वर्ष बीत चुके है , और जहा तक रोजगार देने की बात है तो सरकार इस मामले में फिस्सडी निकली अगर सरकार द्वारा नौकरी उपलब्ध कराने की बात की जाये तो BJP के सरकार बनने के बाद वर्ष 2014 में करीब 5 लाख नौकरी दी गयी , उसके बाद वर्ष 2015 में सरकार थोड़ी सुस्त पड़ी और करीब 1.5 लाख ही रोजगार उपलब्ध कराया गया , वर्ष 2016 में इसमें सुधार दिखी और लगभग 2.5 रोजगार की दी गयी वर्ष

INTERNATIONAL LABOUR ORGANIZATION  | UNEMPLOYMENT INCREASING
INTERNATIONAL LABOUR ORGANIZATION  | UNEMPLOYMENT INCREASING

2018 यानि की वर्तमान की बात करे तो ऐसा लगता है की इस वर्ष लगभग 5 लाख लोगो को रोजगार दी जाएगी की वशर्ते की इस वर्ष में चल रही नौकरी की VACANCY की प्रकिरिया 2018 से पहले पूरी जाये | मुख्य रूप से परिकिया में चल रही VACANCY की बात करे तो रेलवे को ही ले ले यंहा इसबार लगभग दो लाख नियुक्तिया होनी थी , विभिन पदों जैसे ग्रुप -D , GROUP -C , RPF, DRIVER यदि की जो इस बार निउक्ती की परक्रिया पूरी हो जाये ऐसा संभव नहीं लग रहा ऐसा लग रहा है ये भर्ती भी इस बस पूरी नहीं हो पायेगी | कारण आप इस अख़बार की रिपोर्ट में पढ़ सकते है

UNEMPLOYMENT INCREASING
UNEMPLOYMENT INCREASING




कंहा हर वर्ष 1 करोड़ नौकरी , इस हिसाब से हुए 5 वर्षो में 5 करोड़ नौकरी ,कंहा  पिछली 4 सालो में सिर्फ 15-20 लाख ही नौकरी दी गयी , और लगातार और लगातार प्रधनमंत्री और सरकार के तरफ से पकोड़ा और चाय बेचना को रोजगार करार दिया जा रहा है तो विपक्ष ही क्यों हम तो  यही करेंगे की   पकौड़ा-पान पर खत्म हुआ मोदी सरकार का एक करोड़ नौकरियों का वादा |

बिहार डेलीगेशन के लिए – चन्दन कुमार पटेल

Please follow and like us:
YOUR ADD

Leave a Reply