आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

अगर गांधी जी ने सुभाष को रोका न होता तो भारत 1943 मे ही आजाद हो जाता ?

अगर  गांधी  जी ने सुभाष  को  रोका न होता तो भारत 1943 मे ही आजाद हो जाता । ये एक कर्वा सच हैं  , हैं जिसे हर  हिंदुस्तानी एक न एक दिन स्विकार करेगा  । बोस जब  29 december 1943 को जब  जापन  से भारत लौटे तो ऊँहोने ने सिर्फ एक दिन मे andman और  निकोबार पर जापनी  और  और  भारत के military सहयोग से  भारत के तिरंगे  को फहरा  दिया  , अंदमान का नाम  शहीद द्विप जबकी  निकोबार का नाम  स्वराज रखा यहाँ तक  भारत की अपनी पर्शानिक  व्यवस्था भी  लागु कर दिया गया  ऐ.ड लोंगांथांन को गोवर्नेर बनाया  गया  , जब  गांधी  जी को ये बात  पता  चली तो उन्हे अच्छा नहीं लगा  और  ऊँहोने कहाँ अगर  कोई भारत मे इस तरह से आना चाहता  हैं तो ये बिलकुल गलत हैं , सुभास  जी गांधी  जी की बहूत  इज्ज़त करते  थे  शायद ऐसलिये ऊँहोने कोई और  कदम भारत की आजादी के लिये तुरंत  नहीं बढाया, गांधी  जी भारत की आजादी अहिंशा के बल पर  दिलाना चाहते  थे , एक बात  अभी  भी  हमारे  समझ से पड़े  हैं , अगर गांधी  जी युध  के समर्थक  नहीं थे  तो फिर क्युकी भारतीय जवान  को  अंग्रेजी सेना मे शामिल करना  चाहते थे , दुतिये विश्व मे , जबकी  बॉस चाहते  थे  की हम  अंग्रेज के खिलाफ  वाली सेना को समर्थन दे यानि जापन . ऊँहोने ने नारा भी  दिया था " तुम मुझे  खुन  दो मैं तुम्हे आजादी दूँगा " यानि वो अंग्रेजी हुकुमत को उखार  फेखने मे विश्वास रखते थे , ये दुतिय विश्व युध  के समय संभव भी था  अंग्रेजी हुकुमत की एस्थीती खराब हो गयी  थी  अगर  भारतीय  चाहते  तो ऊँहे खदेर सकते  थे , भारत अपनी लडाई लर  तो रहा  था  लेकिन माहत्मा गांधी  के"  भारत छोड़ो अन्दोलन " 1942 के  ज़रिये  वो भी  आहिंशा के ढ़ग से जब  बॉस 18 अगस्त 1945 को जापन  लौट  रहे  थे  उनकी फ्लेन क्रश  हो गयी  और  रहसमयी  तरिके  से  वे गायब  हो  गये  । उनका  जन्म 23 january 1897 को cuttak udisha मे हुआ था  , उस समय udisha बेंगाल presdency का हिस्सा था , उनकी माता  का  नाम  परभवाती देवी , पिता जानकी नाथ बॉस , उनकी पत्नी एमालि सचेंकी ऐसा  माना जाता है जी ऊँहोने अपने प्रेम को दुनिया से छूपा कर  रखा  था  यानि शादी के बारे  मे लोग नहीं  जानते थे  , उनकी एक बेटी भी हैं अनिता बॉस ।आज उनका जन्म दिवस  हैं , चन्दन Bihar Delegation के तरफ से  पूरे  भारत वासी को जन्मदिन की ढ़ेरो शुभकामनायें । हमारा मकसद  किसी राष्ट के स्वतांत्रा सेनानी का अलोचना  करना  कतई नहीं था  चाहे  ऊँहोने ने लडाई  किसी भी  तरह से लडी  , ऊँहोने हमारे लिये ही तो लडी सौ  जन्म कुर्बाँ करके भी  आजादी जो इन्होने ने  हमे  दिलवाया हम  किमत नहीं चुका  सकते , जय  गांधी , जय  सुभास , जय  भगत , जय  आजाद , भारत माता की जय  , बन्दे मातरम ।

No comments