आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

27 सालो में दूसरी बार पदम् सम्मान लेने शारदा सिन्हा SHARDA SINHA राष्टपति भवन पहुची !


27 सालो में दूसरी बार पदम् सम्मान लेने शारदा सिन्हा SHARDA SINHA  राष्टपति भवन पहुची !

27 सालो में ये दूसरा मौका था जब शारदा सिन्हा पदम् सम्मान लेने राष्टपति भवन पहुची इससे पहले १९९१ 
पद्म श्री सम्मान लेने गए थे तो उनके साथ सिर्फ उनके पति श्री ब्रिज किशोर सिंहा और उनके सहयोगी अनिल झा थे लेकिन इसबार पुरे परिवार के साथ राष्टपति भवन पहुची उनका बीटा अंशुमान , बेटी वंदना और दामाद 
संजू भी साथ थे ! राष्टपति भवन में काफी अच्छी आयोजन की तयारी थी ,  राष्टपति राम नाथ कोविंद के अलावे उनकी मुलाकात वंहा, उपराष्ट्रपति वेकैया नायडू , प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी , विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ,गृह मत्री राजनाथ सिंह और कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद से भी हुई सभी लोगो ने उन्हें सुभकामना दिया ! आप निचे आयोजन की तस्वीर देख सकते है बायीं छोड़ पर शारदा सिन्हा जी नजर आ रही है !






 बिहार कोकिला, पद्मश्री और अब पद्मभूषण से सम्मानित शख्सियत, जिनपर बिहार को नाज है ...एेसी सरल स्वभाव, हंसती-मुस्कुराती, कुछ शरारती और सुरों की मल्लिका हैं डॉक्टर शारदा सिन्हा। 'पनिया के जहाज से पलटनिया बनी अईह पिया...' हो या 'कांचे ही बांस के बहंगियां...' हो, या फिर 'कहे तोसे सजना तोहरी सजनिया...' हो, एेसे तमाम गाने जिनकी मखमली आवाज के जादू में लोगों के जेहन में रचे-बसे हैं, जिन्होेंने बिहार के लोकगीतों को देश ही नहीं विदेशों में भी पहचान दिलायी, वो हैं शारदा सिन्‍हा।


 

बिहार डेलीगेशन के तरफ से भी शारदा सिन्हा जी को ढेरो सुभकामनाये !

No comments