आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

KENDRIYA VIDYALAYA - के मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे युवा !


KENDRIYA VIDYALAYA - के मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे युवा !

MADHUBAI (BIHAR) : kendriya vidyalaya खोले जाने की मांग को लेकर सालों से आंदोलित मिथिला स्टूडेंट यूनियन - MSU आज मधुबनी जिला समाहरणालय के समक्ष आमरण अनशन पर बैठ चुकी है. मांग जायज है, केन्द्रीय विद्यालय के खुलने से आम जनता को लाभ मिलेगा. अब देखना है की इस जायज और जनहित के मांग पर एमएसयू की इस लड़ाई में लोगों का कितना समर्थन मिलता है.




चलिये हम आपको कुछ आकड़े के जरिए समझाते है मधुबनी डिस्ट्रिक्ट की कुल जनसँख्या 50 लाख के करीब है और SCHOOL की संख्या इस प्रकार है
  • प्राथमिक विद्यालयः 901
  • मध्य विद्यालयः 382
  • माध्यमिक विद्यालयः 119
  • डिग्री कॉलेजः 27
  • केंद्रीय विधालय एक   भी नहीं 
अगर आप कुल जनसख्या को SCHOOL के संख्या से भाग करेंगे तो पता लगेगा की एक स्कूल पर ३६०० लोग का भार ! आपकी बात मानते है की परिवार के सारे लोग विधालय नहीं जाते फिर ३०-४० % तो विधार्थियों की संख्या होगी यानि एक 
SCHOOL पर 1600-1700 विधार्थी का भार ऐसे में न सिर्फ केन्द्रीय विद्यालय बल्कि प्राथमिक , मध्य , डिग्रीधारी विधालय की भी जरूरत बढ़ जाती है ! क्या आप जानते है यंहा का शिक्षा दर क्या शिक्षा के प्रसार के मामले में मधुबनी एक पिछड़ा जिला है। साक्षरता मात्र 41.97% है जिसमें स्त्रियों की साक्षरता दर महज 26.54% है। आधारभूत संरचना के अभाव को शिक्षा क्षेत्र में पिछड़ेपन का मुख्य कारण माना जाता है।

ऐसे में इस तरह की मांग जायज है !


कैसा होता है केंद्रीय विद्यालय


kaisa hota hai kendriya vidyalaya के लिए इमेज परिणाम


kaisa hota hai kendriya vidyalaya के लिए इमेज परिणामkaisa hota hai kendriya vidyalaya के लिए इमेज परिणामkaisa hota hai kendriya vidyalaya के लिए इमेज परिणाम


No comments