आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

कामाख्या मंदिर: देवी मां का इकलौता ऐसा मंदिर, जहां दसों महाविद्या हैं विराजित

कामाख्या मंदिर: देवी मां का इकलौता ऐसा मंदिर, जहां दसों महाविद्या हैं विराजित


गुवाहाटी के कामाख्या शक्तिपीठ में देवी मां 64 योगिनियों और दस महाविद्याओं के साथ विराजित हैं। ये दुनिया की इकलौती शक्तिपीठ है, जहां दसों महाविद्या- भुवनेश्वरी, बगला, छिन्नमस्तिका, काली, तारा, मातंगी, कमला, सरस्वती, धूमावती और भैरवी एक ही स्थान पर विराजमान हैं। कामाख्या शक्तिपीठ गुवाहाटी (असम) के पश्चिम में 8 कि.मी. दूर नीलांचल पर्वत पर है। माता के सभी शक्तिपीठों में से कामाख्या शक्तिपीठ को सर्वोत्तम माना जाता है। जानिए कामाख्या शक्तिपीठ से जुड़ी खास बातें…

जानऐसे बना कामाख्या शक्तिपीठ
देवी पुराण के अनुसार माता सती ने अपने पिता के यज्ञ कुंड आत्मदाह कर लिया था। इसके बाद भगवान शिव माता के शरीर को उठाकर विनाश नृत्य करना आरंभ कर दिया था।

शिवजी के तांडव की वजह से संपूर्ण सृष्टि के विनाश का संकट खड़ा हो गया है। इस संकट को दूर करने के लिए भगवान विष्णु ने सुदर्शन चक्र की मदद देवी सती की देह के टुकड़े-टुकड़े कर किए।

जहां-जहां सती के शरीर के अंग गिरे, वो स्थान शक्तिपीठ बन गए। कामाख्या शक्तिपीठ पर माता सती का गुह्वा मतलब योनि भाग गिरा था। इस कारण कामाख्या महापीठ की उत्पत्ति हुई।
कहा जाता है यहां देवी का योनि भाग होने की वजह से साल में एक बार तीन दिन के लिए माता रजस्वला होती हैं। इस दौरान यहां अम्बूवाची मेला आयोजित होता है।
ये मेला हर साल जून में लगता है। इन तीन दिनों में मंदिर को बंद कर दिया जाता है। तीन दिनों के बाद मंदिर को बहुत ही उत्साह के साथ खोला जाता है।
अम्बुबासी मेला को अम्बुबाची नाम से भी जाना जाता है। अम्बुवाची शब्द अंबु और बाती दो शब्दों के मेल से बना है जिसमें अंबु का अर्थ है पानी जबकि बाची का अर्थ है उतफूलन।
यह स्त्रियों की शक्ति और उनकी जन्म क्षमता को दर्शाता है। यह मेला हर साल यहां मनाया जाता है जिसको महाकुंभ भी कहा जाता है।
मेले के दौरान तांत्रिक शक्तियों को काफी महत्व दिया जाता है। यहां सैकड़ों तांत्रिक अपने एकांतवास से बाहर आते हैं और अपनी शक्तियों का प्रदर्शन करते हैं।

No comments