आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

नीतीश सरकार में एक पुल के लिए तरस रहे लोग, नदी के बीच बैठ कर रहे हैं जल सत्याग्रह

movement is something unique.

Patna : जिला मुख्यालय से करीब 23 किलोमीटर पूरब बूढ़ी गंडक नदी के रजवाड़ा घाट पर पुल व रिंग रोड बनाने की मांग को लेकर 4 साल से 24 गांवों के लोग आंदोलन कर रहे हैं। आपने बहुत बार धरना प्रदशन करते लोगों को देखा होगा पर यहाँ धरना करना हो रहा थोड़ा अलग तरीके से। पूरब बूढ़ी गंडक नदी के रजवाड़ा घाट पर पुल व रिंग रोड बनाने की मांग कर रहे। 4 साल में तीसरी बार पुल निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने अनशन का सहारा लिया है। पर, इस बार आंदोलन का तरीका कुछ अनोखा है।
4 साल में तीसरी बार पुल निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने अनशन का सहारा लिया है। अन्न-जल त्याग कर पहले चार दिनों तक नदी के किनारे अनशन करने वाले पांच पुरुष व पांच महिलाएं बुधवार से बूढ़ी गंडक नदी की बीच धारा में 20 फीट गहरे पानी के ऊपर नाव पर सवार हैं।फरवरी 2015 में तत्कालीन एसडीओ पूर्वी सुनील कुमार की अनुशंसा पर मझौली से रजवाड़ा घाट वाया मुशहरी ब्लॉक से मधौल तक रिंग रोड सह पुल के लिए डीपीआर बनाने की स्वीकृति दी थी।
 movement is something unique.
लोगों का कहना है उनकी बात नहीं मानी जा रही। करीब 3 घंटे तक यह वो सब बीच नदी में बैठे रहे।   20 फीट गहरे पानी में नाव में 3 घंटे रहना बहुत ही हैरान कर देने वाली बात रही है। काफी साल बीत तो जरूर गए है , लोगों का इंतज़ार अभी भी वैसे ही है , वो अभी भी सोच रहे है की कोई तोह उनकी बात सुनेगा कभी न कभी। पु
ल बनने से नेपाल के जनकपुर धाम एवं चामुंडा स्थान के लिए यह सुगम रास्ता हो जाएगा। यह पुल व रिंग रोड उनके लिए क्यों जरूरी है। बुधवार को एसडीओ पूर्वी कुंदन कुमार के साथ उनकी वार्ता असफल रही। अब अनशनकारियों ने कहा है कि उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो 5 नवंबर को वे जल समाधि लेंगे।देखने की बात ये है , कब तक उनकी बात सुनी जात
SOURCE - MAI BIHARI

No comments