आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

राम मंदिर पर बोले सुशील मोदी, कहा- करोंड़ों हिंदुओं के लिए हो भव्य मंदिर का निमार्ण



पटना : बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने पटना में सरदार पटेल जयंती और कृषक सम्मान समारोह में सुप्रीम कोर्ट पर यह कहते हुए हमला बोला कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण करोड़ों हिन्दुओं की अभिलाषा है। इसलिए कोर्ट को इस पर जल्द से जल्द फैसला कर देना चाहिए।उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि जब सुप्रीम कोर्ट आधी रात में कर्नाटक सरकार से जुड़े फैसले कर सकती है, समलैंगिकों पर फैसला कर सकती है तो फिर राम मंदिर का मामला वर्षों से अदालत में क्यों लटका है.
समारोह के दौरान सुशील मोदी ने राम मंदिर निर्माण की वकालत की है. उन्होंने इसे करोड़ों हिंदुओं की भावना बताया. सुशील मोदी ने कहा कि 2010 में ही इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया था. साथ ही उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का आदेश दुर्भाग्यपूर्ण है. अदालतों ने राम मंदिर को लटकाकर रखने का उन्होंने आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि राम जन्मभूमि का मामला जब आता है तो कोर्ट के पास समय नहीं होता है.
सुशील मोदी ने कहा कि मस्जिद कहीं भी बन सकता है, लेकिन राम मंदिर अयोध्या में ही बनेगा. कोर्ट पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि समलैंगिकता और अर्बन नक्सल पर सुप्रीम कोर्ट फैसला दे सकती है तो राम मंदिर पर क्यों नहीं? उन्होंने कहा कि हम राम मंदिर को छोड़ नहीं सकते हैं, केंद्र सरकार भव्य राम मंदिर के पक्ष में है.
सुशील मोदी ने देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के बहाने कांग्रेस पार्टी पर भी हमला किया. उन्होंने कहा कि नेहरू सोमनाथ मंदिर के पक्ष में नहीं थे. वह मंदिर के पुनर्निर्माण के घोर विरोधी थे. साथ ही उन्होंने कहा कि नेहरू, राजेन्द्र बाबू का राष्ट्रपति भी बनाना नहीं चाहते थे. सुशील मोदी ने कहा कि नेहरू ने खत लिखकर सोमनाथ मंदिर नहीं जाने के लिए कहा था.
हालांकि सुशील मोदी ने अपने पार्टी के अन्य नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह की तरह कोई भरकाऊ बात नहीं की. लेकिन बिहार के नेताओं के अयोध्या मुद्दे पर सक्रिय आक्रामक रुख से साफ़ है कि उन्हें लगता है कि इस मुद्दे के आड़ में वह कई कारणों से नाराज़ चल रहे अगड़ी जातियों के ग़ुस्से को शांत कर सकते हैं.




बिहार के मुजफ्फरपुर में रवीना टंडन के खिलाफ क्यों दर्ज हुई FIR क्लिक करकें पढ़े पूरी ख़बर

No comments