आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

बाय – बाय से पहले भाजपा को रगड़ दिया पप्‍पू सिंह ने, कहा – नीतीश के हाथों गुलामी महंगी पड़ेगी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्‍क : एनडीए में सीट शेयरिंग का फार्मूला निकलते ही भाजपा में बगावत शुरु हो गई है . सबसे पहले झंडा उठाया है उदय सिंह मतलब पप्‍पू सिंह ने . पप्‍पू सिंह पूर्णिया के पूर्व भाजपा सांसद हैं . उनके तल्‍ख तेवर से स्‍पष्‍ट हो गया है कि 2019 के जनवरी महीने में ही वे भाजपा को बाय – बाय बोल सकते हैं . गुस्‍सा इतना भरा है कि उन्‍होंने इशारों – इशारों में कह दिया है कि भाजपा को मिली 17 सीटें भी नीतीश कुमार ही बांट देंगे . कहने का आशय यह कि भाजपा नीतीश कुमार की गुलाम हो गई है . इसके साथ ही, उन्‍होंने 2019 का लोक सभा चुनाव पूर्णिया से ही लड़ने का एलान कर दिया है .
पोलिटिकल पंडितों को पता है कि सीट शेयरिंग में पूर्णिया सीट जदयू के खाते में गई है . 2014 के चुनाव में जब जदयू अकेले लड़ रही थी, तब पूर्णिया में भाजपा के पप्‍पू सिंह जदयू के संतोष कुशवाहा के हाथों हार गए थे . लेकिन, हार के बाद भी पूर्णिया में जिस तरीके से पप्‍पू सिंह एक्टिव रहे, किसी को प्रतीत नहीं होने दिया कि वे हारे हुए हैं . हार के साथ ही 2019 के लोक सभा के चुनाव के लिए उन्‍होंने तैयारी शुरु कर दी थी . पर, अब पूर्णिया सीट भाजपा के पास है ही नहीं .
अपने गुस्‍से का इजहार करते हुए पप्‍पू सिंह ने जैसा लिखा – पढ़ा है, साफ प्रतीत हो रहा है कि भाजपा छोड़ने का एलान वे किसी भी दिन कर सकते हैं . कहते हैं, भाजपा में घुटन महसूस हो रही है . आने वाले कुछ दिनों में स्थिति स्‍पष्‍ट नहीं हुई तो खुली हवा की तलाश में दरवाजे से बाहर निकल जायेंगे . पार्टी में और भी लोग ऐसा करने को तैयार हैं .
पप्‍पू सिंह जिस लहजे में बोले हैं, मानो ऐसा लग रहा है कि कोई सनलाइट साबुन से भाजपा के प्रति उठे गुस्‍से की धुलाई कर रहा है . वे कहते हैं कि 40 सीटों में से मात्र 17 सीटों पर भाजपा का लड़ना डर के मारे सरेंडर है . और इसका आशय यह है कि नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता भी अब शंकाग्रस्‍त हो गई है .
बिना नाम लिए नीतीश कुमार पर निशाना साधते पप्‍पू सिंह कहते हैं कि जिसके बूते भाजपा बिहार में लोक सभा चुनाव लड़ना चाहती है, परिणाम बहुत दुखद होगा . बिहार में भाजपा की हालत तो न पक्ष वाली है और न विपक्ष वाली . कार्यकर्ताओं का सारा श्रम पानी में चला गया है . कहने को भाजपा बिहार सरकार का हिस्‍सा है, पर हैसियत किसी गाड़ी की सफाई करने वाले सफाईकर्मी से अधिक की नहीं है . कारण कि ड्राइविंग सीट किसी और के पास है .
पप्‍पू सिंह इतने पर नहीं रुके हैं . कह रहे हैं कि 40 में जो 17 सीटें मिली हैं, उसके बारे में भी भाजपा के टॉप लीडरों को पता नहीं है . ऐसा लग रहा है कि ये सत्रह सीटें भी नीतीश कुमार ही बांट कर दे देंगे . उन्‍होंने कहा कि जहां तक मेरा चुनाव लड़ने का सवाल है, तो वे पूर्णिया से ही लड़ेंगे . और कहीं नहीं जा रहे हैं .
कांग्रेस में जा सकते हैं उदय सिंह उर्फ पप्‍पू सिंह
भाजपा से मोहभंग की स्थिति में आ चुके पप्‍पू सिंह आगे कांग्रेस में जा सकते हैं . पप्‍पू सिंह को सभी तरीके से सक्षम माना जाता है . पूर्णिया में कांग्रेस ही 2014 में लड़ी थी . ऐसे में, महागठबंधन के भीतर पप्‍पू सिंह के लिए स्‍पेस बनाने को बड़ी पैरवी चल रही है . अकेले निखिल कुमार ही नहीं और भी कई नेता कमान संभाले हैं .
पर, कांग्रेस को महागठबंधन में 2014 से कम सीटें मिलती दिख रहीं हैं . ऐसे में, सवाल पैदा है कि इन कम सीटों में कितने राजपूत उम्‍मीदवार . स्‍वयं निखिल कुमार बहुत फिजिकली स्‍ट्रांग न होने के बाद भी औरंगाबाद से लड़ने को तैयार ही हैं . औरंगाबाद लड़ना तो पूर्व मंत्री अवधेश कुमार सिंह भी चाहते हैं, लेकिन निखिल कुमार के रिटायरमेंट के बगैर यह संभव नहीं है . देखिए, आगे – आगे क्‍या होता है .
The post बाय – बाय से पहले भाजपा को रगड़ दिया पप्‍पू सिंह ने, कहा – नीतीश के हाथों गुलामी महंगी पड़ेगी appeared first on Live Cities.




Recent Posts:

Recent Posts

No comments