आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

बिहार के दस फैक्ट,जो हमें बिहारी कहने पर गर्व महसूस करता है







बिहार को इसलिए जाना जाता है कि क्योंकि इस धरती पर कई वीरों ने जन्म लिया है | ये धरती भारत के चार महान राजाओं कि धरती है जो इसी राज्य से संबंध रखते है – समुद्र गुप्त, सम्राट अशोक, राजा विक्रमादित्य और चंद्रगुप्त मौर्य है इन राजाओं कि ख्याति देश के कोने – कोने में फैली हुई है | बिहार में ही बोधगया और पावापुरी जैसी जगह है जहां लोग प्राय शांति के लिए आते है | बिहार में ही दुनिया कि दो पुराने विश्वविद्यालय है एक नालंदा विश्वविद्यालय दूसरा विक्रमशिला विश्वविद्यालय |
1 )दुनिया का सबसे पहला गणराज्य बिहार के वैशाली में स्थापित किया गया था 2) 2600 साल पहले बिहार को सबसे ज्यादा शांतिप्रिय यानी अहिंसा प्रिय भूमि कहा जाता था| बोधगया और पावापुरी में लोग शांति प्राप्त करने के लिये आते थे और आज भी आते हैं | 3) भारत के चार महान राजा इसी राज्य से थे- समुद्र गुप्त, सम्राट अशोक, राजा विक्रमादित्य और चंद्रगुप्त मौर्य|

पुरातन काल में संस्कृति और सत्ता के बारे में अध्ययन करने के लिये दुनिया भर से लोग यहां आया करते थे 5) भारतीय सभ्यता की असली तस्वीर पाटलीपुत्र से ही उभरी थी| 6) नालंदा विश्वविद्यालय दुनिया का सबसे पुराना विश्वविद्यालय है7) बौद्ध और जैन धर्मों के अलावा सिख धर्म की जड़ें भी यहां से जुड़ी हैं गुरुगोविंद सिंह का जन्म पटना में हुआ 8) पुरातन काल में बिहार देश की व्यापारिक राजधानी हुआ करती थी तब देश का 40 फीसदी व्यापार सिर्फ मगध, वैशाली, मिथ‍िला, विदेहा, अंग, साक्य प्रदेश, विज्जी, जनका से हुआ करता था 9) 80 के दशक तक बिहार के मिथिलांचल में श्रीराम को भगवान नहीं माना जाता था| हालांकि अब कुछ लोग यहां भगवान राम की पूजा करने लगे हैं  10) विवाह पंचमी यानी, जिस दिन भगवान राम और सीता की शादी हुई थी, उस दिन मिथिलांचल के लोग शादी नहीं करते| उनका मानना है कि ऐसा करने से कन्या ससुराल में खुश नहीं रहेगी

source - mai bihari



No comments