आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

BIHAR के लोग अब नीतीश कुमार से क्यों उब (Bore) गए हैं ?

BIHAR के लोग अब नीतीश कुमार से क्यों उब (Bore) गए हैं ?

लगता तो है… साथ में सरकारी व्यवस्था पर से पकड़ भी कमज़ोर हो गयी है।
यथार्थ में लालू के औलदों की बेवक़ूफ़ियों से रूष्ट हो कर भाजपा का दामन मजबूरी में थामना पड़ा था। उससे हुआ क्या? गद्दी तो बच गयी, लेकिन मुस्लिम वोट छिटक गया। अब वापस आने वाला नहीं, ये तभी हो सकता है जब चाचा-भतीजे दुबारा गलबैयाँ करे। उसकी सम्भावना कम ही लगती है।
उपरोक्त से अंदाज़ा लग चुका होगा की राजनीति किस करवट लेने वाली है। और ये मोदी-शाह से छुपा नहीं है। इससे नुक़सान ये हुआ की केंद्र से समर्थन मिलना कम हो गया। जो आर्थिक मदद मिलनी चाहिए सही विकास के लिए वो बंद बराबर है। सिर्फ़ उसी के लिए पैसा दिया जा रहा है जो की सीधे प्रधानमंत्री से जुड़ी योजनाए है।
अर्थात बिहार की जनता को ये बताने की कोशिश हो रही है कि देश का हो या प्रदेश का विकास, किसान की आय और जनता का कोई ख़याल रख सकता है वो सिर्फ़ और सिर्फ़ मोदी सरकार ही कर सकती है।
वैसे भी नीतीश को लगभग १५ साल से देख ही रहे है, कोई बदलाव या कोई ख़ास नयीं योजनाए भी नहीं दी, जो की आम आदमी की तरक़्क़ी में जुड़ी हुई हों।
भाई आज देश में ६५% नवजावन है, जिसको न इंतज़ार पसंद है और न ही लल्लो चप्पो, उसको तो चाहिए ऐसा जो हथेली पर सरसों जमा दे। ऊपर से १५ साल की incumbency, साथ में मोदी सरकार का तेज़ी से काम करने का तरीक़ा जो की कम से कम ६५% लोगों को तो पसंद है ही। ये समझते हुये ऐसे में BJP अकेले भी चुनाव लड़ने की तैयारी करे तो क्या ग़लत है। वैसे सच्चाई भी ये ही है।
बहुत हो गया अब समाप्त करता हूँ।
धन्यवाद।

No comments