आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

Chhath chulah started being made, the fragrance of Prasad started coming

बनने लगे छठ के चूल्हे, आने लगी प्रसाद की सोंधी खुशबू

मिट्टी का चूल्हा बनते देखकर ही आस्था के महापर्व छठ के प्रसाद की सोंधी खुश्बू आने लगती है। शहर में छठ पर्व के लिए मिट्टी का चूल्हा बनाने वाले अपने काम जुट गए हैं। दिन-रात एक कर पूरी पवित्रता और निष्ठा के साथ वे इसके निर्माण में लगे हैं। चूंकि छठ बिहार का सबसे बड़ा पर्व है, इसलिए यहीं की मिट्टी से बने चूल्हे का प्रसाद से गहरे अपनापन का बोध होता है।

मिट्टी के चूल्हे पर छठ पर्व का प्रसाद बनाने के पीछे मान्यता यह है कि धार्मिक दृष्टिकोण से मिट्टी को पावन माना गया है। छठ व्रती खरना का प्रसाद जैसे गुड़ की खीर, ठेकुआ और रोटी नए चूल्हे पर ही बनाते हैं। इन सब के पीछे जो सबसे मुख्य कारण है, वह है पवित्रता। मिट्टी के चूल्हे पर बने प्रसाद का स्वाद भी अनूठा होता है।
  

वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार मिट्टी में ऐसे गुण मौजूद होते हैं, जिससे स्वास्थ्य को लाभ मिलता है। मिट्टी से निर्मित वस्तुओं को घर में रखने का धार्मिक महत्व भी है। मिट्टी के घड़े को अगर घर में रखा जाए तो बुध व चंद्रमा ग्रह के सकारात्मक परिणाम मिलते हैं। ज्योतिष में मान्यता है कि मिट्टी के बर्तनों में चाय,पानी या लस्सी जैसे पेय पदार्थों का सेवन करने पर मंगल ग्रह के दोष दूर होते हैं। एल्युमीनियम बर्तन में खाना पकाने से 87 प्रतिशत पोषक तत्व, पीतल के बर्तन में 7 प्रतिशत पोषक और कांसे के बर्तन में 3 प्रतिशत पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। मिट्टी के बर्तन ही ऐसे हैं, जिनमें खाना बनाने से 100 प्रतिशत पोषक तत्व शरीर को मिलते हैं। इसके अलावा भी मिट्टी के बर्तनों में खाना खाने या खाना पकाने के कई फायदे हैं।

Sources:-Hindustan

ये विडियो भी देखे !


No comments