आप भी अपना विज्ञापन यंहा दिखा सकते है सिर्फ 500/-M में कॉल करे 9811695067






Breaking News

आप हमारे ब्लॉग पर बिहार से जुड़े खबर पढ़ सकते है !, आप भी हमें खबर भेज सकते है !| आप इस ब्लॉग पर अपने विचार स्वतंत्र रूप से रखे हम पाठको के साथ शेयर करेंगे ।

भारत में रेलगाड़ी के सबसे पीछे वाले डिब्बे पर X लिखा होता है. इसका मतलब क्या होता है ? WHY WRITE X ON RAIL LAST COTCH

भारत में रेलगाड़ी के सबसे पीछे गार्ड वाले डिब्बे पर काले बैकग्राउंड पर पीले रंग से एक बड़ा सा क्रास (X) बना होता है। यह स्टेशन मास्टर के लिये एक संकेत होता है कि पूरी की पूरी रेलगाड़ी मेरे स्टेशन से निकल चुकी है, उसका कोई हिस्सा ब्लाक सैक्शन में नहीं रहा। तब वह पिछले स्टेशन को दूसरी गाड़ी छोड़ने के लिये अनुमति, जिसे लाइन क्लियर देना कहते हैं, देता है। दो रेलवे स्टेशनों के बीच की दूरी को ब्लाक सैक्शन कहते हैं।

 
 कृपया इस चित्र के बारे में एक नोट नीचे पढ़ें।

ऊपर चित्र में देखिये एक बड़ा पीले रंग का क्रास भी है और नीचे दाँयीं और एक गोलाकार तख्ती भी टंगी हुयी है जिसपर LV लिखा हुआ है। इस LV का अर्थ होता है ‘ Last Vehicle', इस बोर्ड को टाँगना गार्ड की जिम्मेदारी होती है। यह उसकी लाइन पेटी में हमेशा होता है। ड्यूटी आफ होते समय वह अपना LV बोर्ड निकाल लेता है और ड्यूटी पर आने वाला दूसरा गार्ड अपना बोर्ड टाँग देता है। रात में बोर्ड की जगह लाल लाइट वाला टेल लैम्प टाँगा जाता है। क्रास के साथ यह LV बोर्ड दिन में और रैड लाइट वाला टेल लैम्प रात में जरूरी है।

इसकी जरूरत क्यों महशूस हुयी। फर्ज करो स्टेशन A से एक गाड़ी चली और ब्लॉक सैक्शन में उसकी कपलिंग टूट गयी और आधी अधूरी गाड़ी स्टेशन B पर पहुँची और स्टेशन B ने यह समझ कर कि गाड़ी तो निकल गयी वह स्टेशन A को दूसरी गाड़ी छोड़ने के लिए लाइन क्लियर दे देगा और वह गाड़ी ब्लाक सैक्शन में पिछली गाड़ी के छूटे हुये डिब्बों से टकरा जायेगी और एक बहुत बड़ा एक्सीडेंट हो जायेगा।

मैं समझता हूँ, सभी पाठकों की समझ में आ गया होगा। कृपया टिप्पणियाँ करके बतायें कि मैं जवाब को ज्यादा लम्बा तो नहीं कर देता। असल में मेरा उद्देश्य रहता है तकनीकी विषय है नान रेलवे मैंन को एक ले मैन की भाषा में ही समझाना होगा न ?? मेरा लिखा यदि किसी की समझ में न आये तो मेरा लिखना व्यर्थ जायेगा न। मैं सोचता हूँ यदि मैं रेलवे में न होता तो एक टीचर ज्यादा अच्छा हो सकता था।








No comments